URL Full Form, यूआरएल क्या है और कैसे काम करता है?

इस पोस्ट में हम यूआरएल फुल फॉर्म और उससे जुड़े कुछ अन्य तत्वों के बारे में जानेंगे। यूआरएल से जुड़े कई तरह के सवाल हमारे मन में उठते हैं जैसे की यूआरएल की फुल फॉर्म क्या होती है?, URL Full form in hindi, URL KA FULL FORM,what does URL stand for, यूआरएल किसे कहते हैं, यह क्या होता है, यूआरएल कैसे काम करता है, how URL works,what is the meaning of URL,URL full form in computer आदि आदि।

इस लेख में हम आपको आपके इन सभी सवालों के जवाब दे रहे हैं। आशा है, आपको जवाब पसंद आएंगे।

और पढ़िए: ईमेल क्या है? और full form of email in hindi?

CNC Full Form, CNC मशीन क्या है।

URL full form  ( यूआरएल फुल फॉर्म)

URL full form – “Uniform Resource Locator”

“यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर”

यूआरएल इतिहास ( History of URL)

यूआरएल से सबसे पहले  Tim Berners-Lee ने दुनिया को अवगत कराया था। उन्होंने ने ही सबको ये बताया की कैसे इंटरनेट पर रखी हुई हर एक सामग्री को एक निश्चित पते से जोड़कर, उस तक पहुँच को आसान बनाया जा सकता है।

यूआरएल क्या है? ( What is URL in computer?)

एक यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर (URL) कम्प्यूटर नेटवर्क में किसी निश्चित वेब के पते के रूप में जाना जाता है।

जैसा की हम जानते है की कम्प्यूटर नेटवर्क अनगिनत वेबसाइटों का जाल है। जिसमे किसी निश्चित वेबसाइट या किसी निश्चित सामग्री तक बिना किसी पते के पहुँचना संभव नही है।

इसलिए इंटेरनेट से जुड़े हर कम्प्यूटर ,हर वेबसाइट और इंटरनेट पर रखी हर सामग्री का अपना एक अलग यूआरएल होता है। जिससे की आसानी से कोई भी उस तक पहुँच सकता है।

यूआरएल कैसे काम करता है? ( How does URL Works?)

किसी भी website का url मुख्यतया तीन भागो से मिलकर बना होता है।

1 प्रोटोकॉल (HTTP)
2 HOST NAME होस्ट नाम
3 फाइल नाम

http//www.adhyyanonline.com/ what is email

इसमे http को प्रोटोकॉल , www.adhyyanonline.com को होस्ट नाम तथा what is email को फाइल नाम कहा जाता है।

इंटरनेट पर हर वेबसाइट का एक ip adress होता है, जो की अंको में होता है। इस तरह से हर वेबसाइट के आईपी एड्रेस को याद रखना थोड़ा मुश्किल होता है परंतु यूआरएल को याद रखना आसान रहता है। इसलिए जब हम किसी की वेबसाइट का यूआरएल डालते हैं तो यह ब्राउज़र DNS की सहायता से उस यूआरएल को निश्चित वेबसाइट के आईपी एड्रेस में बदल देता है और इस तरह से वेब ब्राउज़र उस निश्चित यूआरएल की वेबसाइट तक पहुंच जाता है।

Leave a Comment