International Maritime Organization चर्चा में क्यो?

अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization या IMO ) चर्चा में क्यो? भारत को दो वर्षो (2018-19) के लिए अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन यानी International Maritime Organization (IMO) की परिषद में पुनः निर्वाचित किया गया है। इसे श्रेणी “B” के अंतर्गत सदस्यता प्रदान की गयी है। और पढे : अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization या …

Read moreInternational Maritime Organization चर्चा में क्यो?

अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization)

अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization या IMO ) यह संगठन संयुक्त राष्ट्र की एक विशिष्ट एजेंसी है। जिसकी स्थापना 1948 में जिनेवा में की गई थी।परंतु उसके 10 साल बाद 1959 में इसकी पहली बैठक संपन्न हुई। 1982 तक इस संगठन को अंतर-सरकारी समुद्री सलाहकारी संगठन के नाम से जाना जाता था। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री …

Read moreअंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization)

चट्टानों के रूपांतरण से बनी शैले (rock formation)

पृथ्वी के क्रस्ट में मिलने वाले सभी प्रकार के मुलायम व कठोर पदार्थ जो विभिन्न प्रकार के खनिज तत्वों के से बने होते हैं,को चट्टान कहते हैं। ये तीन तरह की होती है। आग्नेय, अवसादी और कायांतरित चट्टाने। # geography trick # list of rocks and minerals आग्नेय, अवसादी और कायान्तरित चट्टाने ,ये तीनो चट्टाने …

Read moreचट्टानों के रूपांतरण से बनी शैले (rock formation)

चट्टान की परिभाषा और प्रकार (type of Rocks and their property)

चट्टान की परिभाषा (definition of rocks) : पृथ्वी के क्रस्ट में मिलने वाले सभी प्रकार के मुलायम व कठोर पदार्थ जो विभिन्न प्रकार के खनिज तत्वों के से बने होते हैं,को चट्टान कहते हैं। ऐसे तो विभिन्न प्रकार के तत्व मिलकर चट्टानों का निर्माण (formation of rocks) करते है परंतु 8 तत्व मुख्य है जिनसे …

Read moreचट्टान की परिभाषा और प्रकार (type of Rocks and their property)

भारतीय संविधान की अनुसूचियां schedules of indian constitution

भारतीय संविधान की अनुसूचियां(schedules of indian constitution) भारतीय संविधान में कुल 12 अनुसूचियों को स्थान दिया गया हैं जो निम्न प्रकार हैं :- List of indian constitution schedules 1. प्रथम अनुसूची (1st schedule):- इसमें भारतीय संघ के 29 राज्यों और 7 केंद्र शासित प्रदेशों का उल्लेख मिलता है।   – संविधान के 69वें संशोधन द्वारा …

Read moreभारतीय संविधान की अनुसूचियां schedules of indian constitution

राज्यो को विशेष दर्जा Special category status to states

क्या होता है राज्यो को विशेष दर्जा?(what is special category status to states?) राज्यो को विशेष दर्जा मिलने का सीधा मतलब होता है की उन राज्यो की भौगोलिक, आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने पर उन्हें केंद्र से विशेष रूप से अन्य राज्यों से अधिक आर्थिक सहायता दी जाती हैं, साथ ही साथ केंद्र अपनी योजनाओं …

Read moreराज्यो को विशेष दर्जा Special category status to states

Sc/St Act 1989

अनुसूचित जाति/जनजातीय अधिनियम ( अत्याचार निरोधक) 1989 (Sc/St Act 1989) चर्चा में क्यों? चूंकि इस अधिनियम में अभियुक्त की तुरंत गिरफ्तारी होती है।ऐसे में यह हमेशा विवाद का विषय रहा है क्योंकि कई बार राजनीतिक दबाव में,अथवा आपसी रंजिश में इसका दुरुपयोग होता है।नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक देशभर में 2016 में …

Read moreSc/St Act 1989

अनुसूचित जाति/जनजातीय अधिनियम (अत्याचार निरोधक) 1989,

अनुसूचित जाति/जनजातीय अधिनियम ( अत्याचार निरोधक) 1989 (Sc/St Act 1989) sc/st act 1989 summary/ notes on sc/st act 1989 एससी/एसटी एक्ट (Sc/St Act) क्या है? What is sc/st act 1989? यह समाज के वंचित और शोषित वर्ग के लोगो की सुरक्षा के लिए लाया एक प्रावधान है। जो की sc-st वर्ग की सुरक्षा को सुनिश्चित …

Read moreअनुसूचित जाति/जनजातीय अधिनियम (अत्याचार निरोधक) 1989,

गुप्त काल की महत्वपूर्ण रचनाएं ( literatures of gupta empire)

गुप्त काल को भारतीय इतिहास का स्वर्ण युग क्यो कहा जाता है? गुप्त काल को भारतीय इतिहास का स्वर्ण युग कहा जाता है क्योंकि इस काल में भारतीय साहित्य का अद्भुत विकास हुआ।इसमें ना केवल साहित्य का ही विकास हुआ अपितु विज्ञान और प्रौद्योगिकी एवं चित्रकारी के क्षेत्र में भी काफी विकास हुआ। साथ ही …

Read moreगुप्त काल की महत्वपूर्ण रचनाएं ( literatures of gupta empire)

इतिहास की प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं एवं उनके संस्थापक

इतिहास की प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं एवं उनके संस्थापक – important newspaper and journal during indian freedom struggle in hindi पत्र पत्रिकाएं ज्ञान का असीमित भंडार होती है। पत्र पत्रिका सामाजिक व्यवस्था के लिए चौथे स्तंभ का कार्य करती हैं। भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में भी इनका अभूतपूर्व योगदान रहा है। इन्हीं के माध्यम से तत्कालीन समाज में …

Read moreइतिहास की प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं एवं उनके संस्थापक

error: Content is protected !!