ISRO Full Form and information in hindi, इसरो क्या है?

इसरो के बारे में हिंदी में।

अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में भारत को विकसित देशो के बराबर ले जाने तथा आत्मनिर्भर बनाने के लिए ऐसे संगठन की आवश्यकता थी, जो अंतरिक्ष से संबंधित जानकारियों पर अनुसंधान करे तथा उसे कैसे देश के हित में उपयोग में लाया जाए पर काम करे। इसरो (ISRO) उसी संगठन का नाम है।

आज इस लेख में हम आपको इसरो के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जैसे इसरो का इतिहास,इसरो फुल फॉर्म, इसरो के केंद्र, इसरो का उद्देश्य आदि दे रहे है।

और पढ़िये : अंतरराष्ट्रीय तापनाभिकीय प्रायोगिक संयंत्र International Thermonuclear Experimental Reactor

और पढ़िये : DRDO Full Form, डीआरडीओ क्या है?

ISRO Full Form in english

Indian Space Research Organization

ISRO Full Form in hindi

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

इसरो क्या है? एवं उसका इतिहास ( what is ISRO? And its History)

सर्वप्रथम 1962 में भारत सरकार ने भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुसंधान समिति (इन्‍कोस्‍पार) का गठन किया था। जिसने डॉ विक्रम साराभाईके साथ मिलकर तिरुवनंतपुरम में थुम्बा भूमध्यरेखीय रॉकेट लॉन्चिंग सेंटर की स्थापना की। जिसका उद्देश्य ऊपरी वायुमंडलीय परत का अनुसंधान था।

इसी समिति को बाद में 1969 में डॉ विक्रम साराभाई के नेतृत्व में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (indian space research organisation) द्वारा अधिक्रमण किया गया।

अतः डॉ विक्रम अंबालाल साराभाई को ही इसरो की स्थापना का श्रेय जाता है।

इसरो का उद्देश्य विभिन्न राष्ट्रीय कार्यो के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और उसके उपयोगों का विकास करना है। इसकी स्थापना से लेकर अब तक इसने राष्ट्र सेवा के अपने उद्देश्य को बनाये रखा है।

उपलब्धियां ( isro achievements)

इसरो ने दो प्रमुख अंतरिक्ष प्रणालियां स्थापित की है। संचार, दूरदर्शन प्रसारण और मौसम सम्बंधित सेवाओ के लिए इन्‍सैट तथा संसाधन की देखरेख तत्व प्रबंधन के लिए भारतीय सुदूर संवेदन उपग्रह (आईआरएस) की स्थापना की है।

इसके साथ-साथ आईआरएस प्रकार के उपग्रहों के प्रमोशन के लिए ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन यान (पी.एस.एल.वी.)और इन्‍सैट प्रकार के उपयोग के प्रमोचन के लिए भूस्थिर उपग्रह पर प्रमोचन यान (जीएसएलवी) को सफलतापूर्वक विकसित भी किया है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने अपने पहले भारतीय उपग्रह, आर्यभट्ट से रोहिणी तक की स्थापना के बाद से कई मील के पत्थर हासिल किए हैं। और अभी भी अपने सफलतापूर्वक मिशन के द्वारा पूरी दुनिया को अचंभित कर रहा है।

अभी हाल ही में चन्द्रयान 2 मिशन के द्वारा इसरो ने फिर अपना लोहा मनवाया है।

अंतरिक्ष आयोग नीतियों को सूत्रबद्ध करता है, और देश के सामाजिक- आर्थिक लाभ के लिए अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विकास और उपयोग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के कार्यक्रमों का निरीक्षण करता है। अंतरिक्ष विभाग इन कार्यक्रमों को मुख्य रूप से इसरो ,भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला ,राष्ट्रीय वायुमंडलीय अनुसंधान प्रयोगशाला आदि के माध्यम से कार्यान्वित करता है।

मुख्यालय (Headquarter)

इसरों का मुख्यालय कर्नाटक राज्य की राजधानी बेंगलुरु (Bengaluru) में स्थापित है |

इसरो के केंद्र ( ISRO Centers)

इसरो ने अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक मजबूत आधरभूत ढांचे का विकास किया है। जिसमे कई केंद्र और एजेंसियों की स्थापना की है। जिसमे से मुख्य निम्नलिखित है-
1 विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (vikram sarabhai space centre)
2 थुम्बा स्थित अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला
3 इसरो उपग्रह केंद्र
4 श्री हरिकोटा हाई एल्टीट्यूड रेंज सेंटर
5 तरल नोदन प्रणाली केंद्र सेंटर
6 अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र
7 विकास और शैक्षिक संप्रेक्षण यूनिट
8 इसरो टेलीमेट्री,ट्रेकिंग और कमांड नेटवर्क
9 इनसेट मास्टर कंट्रोल फेसिलिटी
10 राष्ट्रीय दूर संवेदी एजेंसी
11 राष्ट्रीय मेसोफियर-ट्रोपोस्फीयर रडार सुविधा
12 अंतरिक्ष निगम लिमिटेड

Frequently asked questions

  • where is isro headquarters located?
  • इसरो की स्थापना किसने की?
  • इसरो केंद्र कहाँ है?
  • इसरो फुल फॉर्म
  • इसरो फुल फॉर्म इन इंग्लिश
  • isro full form and information
  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन कहाँ स्थित है?

Leave a Comment

error: Content is protected !!