Iso full form in hindi,iso certificate meaning,iso क्या होता है?

हैल्लो दोस्तो, आज हमारे इस लेख का टॉपिक “ISO full form in hindi” है। परन्तु हम यहाँ केवल ISO ka full form ही नही जानेंगे अपितु इसके साथ-साथ यह भी जानेंगे की ‘iso kya hai”, “iso meaning in hindi”,”iso full information in hindi” आदि।

यह भी पढ़िये : CNC Full Form in hindi, सीएनसी मशीन क्या है?

ISO full form in hindi

ISO का पूरा नाम हिंदी में “अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन” होता है।

ISO full form
ISO full form

ISO full form in english

Full form of ISO in english is “International Organization for Standardization”.

ISO headquarter- ISO का मुख्यालय

ISO का मुख्यालय जेनेवा, स्विट्जरलैंड में है।

History of ISO – ISO आईएसओ का इतिहास

1946 में लंदन में सर्वप्रथम 25 देशो के 65 प्रतिनिधियों एक मीटिंग में हिस्सा लिया और इसी मीटिंग में iso के भविष्य की नींव रखी गई। इसके बाद 23 फरवरी 1947 में ISO की स्थापना की गई थी। 1949 में इसे जेनेवा के एक निजी घर में चालू किया गया। जिसमे शुरवात में 5 कर्मचारी थे। और यह कुछ गिने चुने देशो के लिए ही था। बाद में यह अंतरराष्ट्रीय रूप से काम करने लगा।

अभी ISO का मुख्यालय जेनेवा, स्विट्जरलैंड में है। सबसे पहला ISO standard ISO/R 1:1951 था। जो बाद में समय के साथ update होता गया।

1987 में, ISO ने अपना पहला गुणवत्ता प्रबंधन मानक प्रकाशित किया। आईएसओ 9000 परिवार में मानक सबसे प्रसिद्ध और सबसे अधिक बिकने वाले मानकों में से कुछ बन गए हैं।

ISO – अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन क्या होता है।

जैसा की इसके नाम से ही पता चलता है की यह एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है, जिसका उद्देश्य उत्पादों की गुणवत्ता की जांच करके उन्हें संबंधित सर्टिफिकेट प्रदान करना है ताकि उपभोक्ताओं को सही उत्पाद और सेवाओ का लाभ मिल सके।

ISO द्वारा प्रदान किया गया सर्टिफिकेट यह सुनिश्चित करता है की वस्तुओ और सेवाओ में quality का पूरा ध्यान रखा गया है। साथ ही साथ यह ध्यान रखता है की पर्यावरण पर इन वस्तुओ और सेवाओ का प्रतिकूल प्रभाव न पडे।

यदि किसी कम्पनी को ISO certificate मिलता है तो यह उस कंपनी के उत्पादों और सेवाओ की विश्वसनीयता को बढ़ाता है।

Type of ISO Standards – ISO के प्रकार

ISO अलग अलग उत्पादों को उनकी गुणवत्ता के आधार पर अलग अलग सर्टिफिकेट प्रदान करता है। सभी का यहाँ उल्लेख करना तो यहाँ थोड़ा लम्बा हो जाएगा क्योकि यह 20 हज़ार से ज्यादा है, अतः कुछ महत्वपूर्ण प्रकार के standards को हम यहाँ बताने जा रहे है।

  • ISO 9001 : QUALITY MANAGEMENT SYSTEMS (गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली)
  • ISO 14001 : ENVIRONMENTAL MANAGEMENT (पर्यावरण प्रबंध)
  • ISO 45001:OCCUPATIONAL HEALTH AND SAFETY MANAGEMENT SYSTEMS (हेल्थ और सुरक्षा प्रबंध प्रणाली)
  • ISO/IEC 27001 – INFORMATION SECURITY MANAGEMENT (सूचना सुरक्षा प्रबंधन )
  • ISO 1006:1983 BUILDING CONSTRUCTION (भवन निर्माण)
  • ISO 10012:2003 MEASUREMENT MANAGEMENT SYSTEMS (माप प्रबंधन प्रणाली)
  • ISO 22000 – FOOD SAFETY MANAGEMENT (खाद्य सुरक्षा प्रबंधन)

आईएसओ के फायदे – Benifits of ISO Certified

  1. किसी कंपनी के ISO Certified होने से कंपनी की विश्वसनीयता बढ़ती है।
  2. उचित प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा मिलता है, जिससे उत्पादों की गुणवत्ता भी बढ़ती है।
  3. ISO द्वारा प्रदान standards जो की हर क्षेत्र जैसे रोड सेफ़्टी, दवाओं की गुणवत्ता, खिलौनों की गुणवत्ता में प्रदान किया जाता है, जो की समूचे विश्व को एक सुरक्षित माहौल प्रदान करता है।
  4. नियामक संस्थाएं और सरकारें बेहतर मानकों को विकसित करने में मदद करने के लिए आईएसओ मानकों पर भरोसा करती हैं। यह जानते हुए कि उनके पास विश्व स्तर पर स्थापित विशेषज्ञों की सलाह है।
  5. इससे अंतरराष्ट्रीय व्यापार करने में भी सुविधा होती है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!