डेंगू क्या होता है,लक्षण,उपचार-Dengue symptoms in hindi

जैसा कि हमें पता है कि डेंगू बीमारी मच्छरों के काटने से होती है। हर वर्ष के बारिश  के मौसम में यह बीमारी ज्यादा फैलती है,क्योंकि बारिश के कारण मच्छर ज्यादा उत्पन्न होते हैं। यह बीमारी जानलेवा होती है। मच्छरों से फैलने वाली बीमारी में यह सबसे खतरनाक बीमारी है। आज इस लेख में हम आपको डेंगू से संबंधित सभी जानकारी जैसे डेंगू बुख़ार क्या होता है,डेंगू के लक्षण और उपचार इन हिंदी, Dengue symptoms in hindi आदि देंगे।

डेंगू बुख़ार क्या होता है? What is dengue fever in hindi

डेंगू एक प्रकार की जानलेवा बीमारी होती है। यह एक प्रकार का बुखार होता है,जिसे आमतौर पर “हड्डी तोड़ बुखार” के नाम से भी जाना जाता है। यह बीमारी एक फ्लू जैसी है जो डेंगू वायरस के कारण होती है। यह बीमारी एक मच्छर के काटने से होती है जिसका नाम है एडिस मच्छर जो बहुत जानलेवा साबित होते हैं। जब एडिस मच्छर किसी स्वस्थ आदमी को काटता है तब डेंगू होता है। यह बीमारी मुख्य रूप से दुनिया के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में  पाई जाती है। क्योकि यहाँ इस वायरस को पनपने का उचित माहौल मिलता है।

यह भी पढ़िये : सोरायसिस क्या होता है,सोरायसिस की दवा,लक्षण


डेंगू कैसे होता है? – how dengue fever is caused

यह बीमारी एक प्रकार के मच्छर के काटने से होती है, जिसका नाम एडिस मच्छर है। यह मच्छर को एडिस इजिप्टी मच्छर भी कहते हैं। इन मच्छरों के शरीर पर धारियां होती है। यह मच्छर खासकर दिन में, सुबह के वक्त में काटते हैं।यह डेंगू बीमारी ज्यादातर बारिश के मौसम में फैलती है, उसके उपरांत यह अक्टूबर से जुलाई तक ज्यादा फैलता है। क्योंकि  इन महीनों में मच्छरों को पनकने  के लिए अनुकूल वातावरण रहता है, जैसे बारिश का पानी कहीं भी पड़ा रहता है वहां यह बैक्टीरिया के तौर पर जन्म लेते हैं इसलिए बारिश के मौसम में डेंगू ज्यादा फैलता है। डेंगू बीमारी फैलना चार वायरसों के कारण होता है, जो इस प्रकार हैं – डीईएनवी-1, डीईएनवी-2, डीईएनवी-3 और डीईएनवी-4 

डेंगू के लक्षण – Dengue symptoms in hindi

इस बीमारी में साधारण लक्षणों में बुखार ही होता है लेकिन जो छोटे बच्चे और किशोर बच्चे होते हैं उनमें इनके लक्षण नहीं दिखाई देते इसलिए पहचानना मुश्किल है। डेंगू बीमारी में ज्यादातर 104 डिग्री बुखार होता है।- Dengue symptoms in hindi

  • जब डेंगू होता है तो सिर में दर्द होता है।
  • इसमें आपकी मांसपेशियां और हड्डियो या जोड़ों का दर्द ज्यादा दिन तक हो तो वह डेंगू के लक्षण है।
  • जब आप डेंगू जैसी बीमारी से गुजर रहे होते हैं तो आपका जि मचलने लगता है।
  • आमतौर पर डेंगू के लक्षणों में उल्टी लगती है।
  • आंखों के पीछे भी दर्द होता है।
  • इस बीमारी में आमतौर पर ग्रंथियों में सूजन आ जाती है।
  • डेंगू की बीमारी में त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ते हैं

डेंगू वायरस के प्रकार (Types of Dengue in Hindi)

हम तो अपना बुखार के तीन प्रकार होते हैं जो निम्नलिखित है:
1)हल्का डेंगू बुखार
2) डेंगू रक्तस्रावी बुखार 
3) शॉक सिंड्रो 

डेंगू से बचने के उपाय

डेंगू बीमारी से बचने के लिए हमें सावधानी रखनी पड़ती है क्योंकि यह बहुत खतरनाक बीमारी है,और यह कभी भी जानलेवा हो सकती है इसलिए नीचे दर्शाए अनुसार सावधानियां रखनी चाहिए।

  • अपने घर को साफ सुथरा रखें।
  • घर के आस-पास कहीं भी पानी जमा न होने दें।
  • अपने घर के कोनो को साफ रखें और उनकी हर हफ्ते सफाई करते रहे।
  • सूखे और गीले कचरे को अलग करके फिर भेजें और कचरे को जमा ना होने दें।
  • बारिश से जमा हुआ पानी होने के कारण डेंगू के मच्छर पलने की संभावना ज्यादा होती है, इसलिए ज्यादा ध्यान रखना चाहिए।
  • शरीर पर ज्यादातर पूरे कपड़े पहनने की कोशिश करे।
  • मच्छर प्रतिरोधी क्रीम अपने पास रखे और हमेशा लगाएं।
  • अपने घर के दरवाजे खिड़कियां बंद रखें ज्यादातर शाम और सुबह के दौरान क्योंकि उस समय मच्छरों का ज्यादा खतरा रहता है।
  • 1 दिन के उपयोग के बाद तो तोलिया साफ करें।
  • अपने गीले कपड़ों को सूखे कपड़े से दूर रखें।

ड़ेंगू (dengue) हो जाये तो क्या खाना चाहिए

डेंगू बीमारी हो तो ज्यादातर पौष्टिक खाना खाना चाहिए जिससे बीमारी जल्दी ठीक हो सके इसलिए नीचे दर्शाए अनुसार चीजें खानी चाहिए।


● पपीते के पत्ते का जूस पिए जिससे आपकी इम्यून सिस्टम मजबूत बने, पपीते के पत्ते में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जिससे आपका पााााचन सिस्टम चन मजबूत बनता है|

● वेजिटेबल जूस पिए जिससे आपको थोड़ी ताकत मिले।

ताजी सब्जियां खानी चाहिए,ताजी सब्जियों में अनेक पोषक तत्व पाए जाते हैं। साथ ही कई सब्जियों में विटामिन सी पाए जाते हैं।
● हर्बल चाय पिए आयुर्वेद में हर्बल चाय औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है| इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं| जो सेहत के लिए रामबाण दवा है।

Leave a Comment