ATM Full Form, एटीएम का फुल फार्म क्या है?

इस पोस्ट में हम एटीएम की फुल फॉर्म और उससे जुड़े कुछ अन्य तत्वों के बारे में जानेंगे। एटीएम से जुड़े कई तरह के सवाल हमारे मन में उठते हैं जैसे की एटीएम की फुल फॉर्म क्या होती है?, ATM Full form in hindi, ATM KI FULL FORM,what does ATM stand for, एटीएम किसे कहते हैं, यह क्या होता है, एटीएम कैसे काम करता है, how ATM works,what is the meaning of ATM, आदि आदि।

Also read : ईमेल क्या है? और full form of email in hindi?

CNC Full Form, सीएनसी मशीन क्या है?

इस लेख में हम आपको आपके इन सभी सवालों के जवाब दे रहे हैं। आशा है, आपको जवाब पसंद आएंगे।

ATM full form in english ( एटीएम फुल फॉर्म)

ATM full form – “Automated Teller Machine” होता है।

ATM full form in hindi

ATM को हिंदी में “स्वचालित गणक मशीन” कहते हैं।

एटीएम का अविष्कारक (Inventor of ATM)

Atm Inventor John Shepherd-Barron (founder Of ATM) को कहा जाता है। इनका जन्म भारत में हुआ था। यद्दपि एटीएम का पेटेंट अमेरिका के एक व्यवसायी Donald Wetzel के पास है।

एटीएम का इतिहास( History of ATM)

1961 प्रायोगिक तौर पर सबसे पहले एटीएम मशीन न्यूयॉर्क शहर में लगाया गया था। इसे न्यूयॉर्क के सिटी बैंक ऑफ न्यूयॉर्क ने अपने ग्राहकों के लिए लगाया था परंतु ग्राहकों के द्वारा अस्वीकृत कर दी जाने पर इसे हटा दिया गया था।

आज उपयोग में लीये जाने वाले एटीएम की पहली पीढ़ी का प्रयोग लंदन के बार्केले बैंक ने 27 जून 1967 को किया था।

भारत में पहला ATM HSBC (Hongkong and Shanghai Banking Corporation) द्वारा 1987 में मुंम्बई में लगाया गया था।

शुरू में एटीएम पिन (ATM pin) 6 अंको का था। जिसे बाद में 4 अंको का किया गया। और आज भी यह 4 अंको का ही होता है।

एटीएम कैसे कार्य करता है? (How does ATM works?)

Atm machine  को काम में लेने के लिए आपको सबसे पहले अपना atm card जो आपको आपका बैंक देता है को मशीन में लगाना होता है।

इस एटीएम कार्ड में लगी मैग्नेटिक चिप के द्वार आपके खाते की सारी जानकारी मशीन को मिल जाती है।

उसके बाद मशीन आपको आपके pin number डालने को कहती है। उसके बाद एक स्क्रीन खुलती है। जिस पर कई तरह से option होते है, जैसे की जमा करना, balance चेक करना,pin बदलना (pin change) आदि।

Atm के कार्य और लाभ

1 एटीएम कार्ड के द्वारा किसी भी एटीएम मशीन से खुद के बैंक खाते से पैसा निकाला जा सकता है।

2 एटीएम के द्वारा बैंक खाते में पैसा जमा कराया जा सकता है।

3 एटीएम के द्वारा  खाते में शेष राशि की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

4 इसके द्वारा एक खाते से दूसरे खाते में रुपयों को ट्रांसफर किया जा सकता है।

5 बिजली,पानी, टेलीफोन इत्यादि के बिल का भुगतान किया जा सकता है।

6 इसके द्वारा शॉपिंग की जा सकती हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!